उद्धव ठाकरे के इमोशनल कार्ड जारी- अब बोले कहो तो पार्टी ही छोड़ दूं, एकनाथ शिंदे पर पहले से था शक


महाराष्ट्र में चल रहे सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इमोशनल कार्ड खेलना जारी रखा है। शुक्रवार रात जारी मैसेज में उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को फिर से एक भावुक संदेश दिया है। uddhav thackeray plays another emotional card asks if party workers say will leave party -Newzshala – खबरों की पाठशाला

महाराष्ट्र में चल रहे सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इमोशनल कार्ड खेलना जारी रखा है। शुक्रवार रात जारी मैसेज में उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को फिर से एक भावुक संदेश दिया है। उन्होंने पूछा है कि अगर कहो तो पार्टी ही छोड़ दूं। इसके अलावा उन्होंने यह भी बताया है कि उन्हें एकनाथ शिंदे पर पहले से शक था। 

बताया शिंदे से क्या बात हुई थी
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे कुछ दिन पहले एकनाथ शिंदे पर शक हुआ था। तब मैंने शिंदे को बुलाकर कहा था कि वह अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें और शिवसेना को आगे लेकर जाएं। मैंने उनसे कहा था कि भाजपा के साथ जाना ठीक नहीं है। तब शिंदे ने कहा था कि एनसीपी और कांग्रेस मिलकर हमें खत्म करना चाहते हैं। उन्होंने कहा था कि विधायक भाजपा के साथ जाना चाहे हैं। इस पर मैंने उनसे कहा था कि उन विधायकों को मेरे पास ले आएं जो ऐसा करना चाहते हैं। 

जहां जाना चाहें जाएं
ठाकरे ने कहा कि भाजपा वह पार्टी है, जिसने शिवसेना और मेरे परिवार दोनों को बदनाम किया। आप लोग उस पार्टी के साथ जाना चाहते हैं। इस तरह का तो सवाल भी नहीं उठना चाहिए था। उन्होंने कहा कि फिर भी अगर विधायक वहीं जाना चाहते हैं तो चले जाएं। सभी लोग चले जाएं, लेकिन मैं फिर भी नहीं जाऊंगा। अगर कोई भी भाजपा के साथ जाना चाहता है, चाहे वह विधायक हों, या फिर कोई अन्य हों। वह जा सकते हैं, लेकिन जाने से पहले एक बार मुझसे बताकर जाएं। 

तत्काल पार्टी छोड़कर चला जाऊंगा
ठाकरे सिर्फ यहीं नहीं रुके। उन्होंने भावुक अपील करते हुए कहाकि अगर आपको लगता है कि मैं किसी लायक नहीं हूं। मैं यह पार्टी चलाने के काबिल नहीं हूं तो मुझसे बताइए। मैं खुद को इस पार्टी से अलग करने के लिए तैयार हूं। आप मुझसे बता सकते हैं। उद्धव ने कहा कि आप लोगों ने मेरा सम्मान किया क्योंकि बालासाहब ने ऐसा करने को कहा था। अगर अब आप लोग बोलेंगे कि मैं अक्षम हूं तो तत्काल यह पार्टी छोड़कर चला जाऊंगा। 

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि जब हिंदुत्व के नाम पर भाजपा और शिवसेना को अछूत माना जाता था और कोई भी भाजपा के साथ जाने को तैयार नहीं था, बालासाहेब ने कहा कि हिंदुत्व वोटों का विभाजन नहीं होना चाहिए। हम भाजपा के साथ रहे और अब इसका खामियाजा भुगत रहे हैं। उन्होंने कहा, “जिन्होंने हमें छोड़ दिया उनके पास भाजपा में जाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। भाजपा सिर्फ एक चीज चाहती है- शिवसेना को खत्म करना।”

सीएम ने फिर भावुक अपील करते हुए कहा, “अगर आपको लगता है कि मैं बेकार हूं और पार्टी चलाने में असमर्थ हूं, तो मुझे बताएं। मैं खुद को पार्टी से अलग करने के लिए तैयार हूं। आपने अब तक मेरा सम्मान किया क्योंकि बालासाहेब ने ऐसा कहा था। अगर आप कहते हैं कि मैं अयोग्य हूं तो मैं अभी पार्टी छोड़ने को तैयार हूं।”

उन्होंने कहा, “कुछ दिन पहले मुझे शक हुआ तो मैंने एकनाथ शिंदे को फोन किया और कहा, शिवसेना को आगे ले जाने का अपना कर्तव्य निभाओ, ऐसा करना सही नहीं है। उन्होंने मुझसे कहा NCP-कांग्रेस हमें खत्म करने की कोशिश कर रही है और विधायक चाहते हैं कि हम BJP के साथ जाएं। मैंने उनसे कहा जो विधायक ये चाहते हैं उन्हें मेरे पास लाओ। भाजपा, जिसने हमारी पार्टी, मेरे परिवार को बदनाम किया, वही है जिसके साथ जाने की आप बात कर रहे हैं। ऐसा सवाल ही नहीं उठता। विधायक अगर वहां जाना चाहते हैं तो वे सभी जा सकते हैं। अगर कोई जाना चाहता है – चाहे वह विधायक हो या कोई और – आओ और हमें बताओ और फिर जाओ।”

ठाकरे ने कहा कि कांग्रेस-NCP आज हमारा समर्थन कर रही है,शरद पवार और सोनिया गांधी ने हमारा समर्थन किया लेकिन हमारे ही लोगों ने हमारी पीठ में छुरा घोंपा।हमने ऐसे लोगों को टिकट दिया जो जीत नहीं सकते थे और हमने उन्हें विजयी बनाया। उन्हीं लोगों ने हमारी पीठ में छुरा घोंपा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *