BCCI के लिए काम कर चुके फिटनेस कोच ने अफेयर से इनकार पर किया लेक्चरर का कत्ल


उसने अतीत में बीसीसीआई के लिए कॉन्ट्रैक्ट पर काम किया है। बिद्रे ने बीसीसीआई के लिए स्ट्रेंथ और कंडीशनिंग कोच के रूप में काम किया है। इसके अलावा वह पार्ट-टाइम मॉडलिंग भी करता है। Fitness trainer who Worked for BCCI murders college lecturer after relationship sours -Newzshala – खबरों की पाठशाला


भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (BCCI) के लिए काम कर चुके एक फिटनेस कोच पर आरोप है कि उसने एक महिला लेक्चरर की हत्या कर दी। पुलिस का मानना है कि फिटनेस कोच ने कॉलेज की लेक्चरर गौरी आचारी (35) की गला दबाकर हत्या कर दी थी क्योंकि उसने अफेयर से इनकार कर दिया था। आरोपी प्रकाश बिद्रे एक जाना माना फिटनेस ट्रेनर है। उसने अतीत में बीसीसीआई के लिए कॉन्ट्रैक्ट पर काम किया है। बिद्रे ने बीसीसीआई के लिए स्ट्रेंथ और कंडीशनिंग कोच के रूप में काम किया है। इसके अलावा वह पार्ट-टाइम मॉडलिंग भी करता है। 

मृतक आचारी गोवा की राजधानी पणजी से लगभग पच्चीस किलोमीटर दूर कैंडोला में एक सरकारी कॉलेज में लेक्चरर थीं। पहले उनके लापता होने की सूचना मिली थी, जिसके बाद पुलिस ने 36 वर्षीय फिटनेस ट्रेनर प्रकाश बिद्रे को पूछताछ के लिए बुलाया। बिद्रे ने कबूल किया कि उसने आचारी का गला घोंट दिया और उसके शव को पुराने गोवा में एक सुनसान जगह पर फेंक दिया।

उत्तरी गोवा के पुलिस अधीक्षक शोबित सक्सेना ने कहा, “जांच के दौरान, आरोपी ने कबूल किया कि उसने पीड़ित लड़की की गला घोंटकर हत्या की थी और शव को कदंबा बाईपास रोड (पणजी और ओल्ड गोवा के बीच) के पास एक जंगल में फेंक दिया था। मृतक का शव बरामद कर लिया गया और उसे संरक्षण के लिए मुर्दाघर भेज दिया गया।”

पुलिस ने खुलासा किया कि बिद्रे ने गुस्से में आचारी की हत्या करने की बात कबूल की, क्योंकि उसने बिद्रे के साथ दोबारा रिश्ते में लौटने से इनकार कर दिया था। पुलिस अधिकारी ने बताया, “उसने (बिद्रे ने) कबूल किया कि उसका इस महिला के साथ संबंध था और यह महिला इस रिश्ते से बाहर निकलने की कोशिश कर रही थी, लेकिन जब उसने बिद्रे की बातों को ठुकरा दिया, तो उसने उसे मार डाला।”

आचार्य के गुरुवार को लापता होने की सूचना मिली थी। जिसके बाद पुलिस ने बिद्रे को पकड़ लिया और उससे पूछा कि वह वहां क्या कर रहा था जहां से महिला के लापता होने की सूचना मिली थी। सक्सेना ने कहा, “वह अपनी मौजूदगी को सही ठहराने में सक्षम नहीं था और आखिरकार उसने अपना अपराध कबूल कर लिया।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *